बच्चों के विकास के शुरूवाती समय में ध्यान देने योग्य बातें

बच्चों के विकास के शुरूवाती समय में ध्यान देने योग्य बातें

Last Updated on

पहली बार माँ बनने वाली महिलाओं के जीवन में कई तरह के बदलाव आते हैं, जो जितने सुखद होते हैं उतने ही ज्यादा प्रश्न और जिम्मेदारी लेकर भी आता हैं। शिशु की देखभाल और अच्छी परवरिश से जुडे़ सवाल नई माँ के मन में चलते रहते हैं। लेकिन इन सवालों से परेशान होने के बजाय इसे किस तरह से आसान किया जाए इस पर विचार किया जाना चाहिए। आपके आसपास ऐसे कई बहुत सारे लोग मौजूद होते है जो आपको सवालों का जवाब पाने में आपकी मदद कर सकते हैं। लेकिन अगर आप खुद यह प्रयास करेंगी तो आपको एक नया अनुभव होगा, जो आपके खुद के लिए महत्वपूर्ण है, ये मेरा खुद का अनुभव है जो मेरे लिए एक सुखद एहसास रहा है।

बच्चों की देखभाल से जुड़े इन पाँच बेसिक टिप्स को अच्छे से समझ लिया जाए तो मातृत्व के सफर को आसान बनाया जा सकता है, तो आइए उन पाँच जरूरी बातों के बारे में जानते हैं: 

1. बच्चे की मालिश

आइए, हम जानते हैं कि बच्चों के लिए मसाज करना क्यों जरूरी है और इसे कब शुरू करना चाहिए। मालिश करने से बच्चे की मासंपेशिया मजबूत होती हैं जो उनकी शारीरिक बनावट को खूबसूरत बनाता है। जन्म के बाद से ही हम मसाज शुरू कर सकते हैं, मसाज के लिए हम आलमंड ऑयल, ऑलिव ऑयल, सरसों का तेल और नारियल का तेल इस्तेमाल कर सकते हैं। ये सभी तेल बच्चे की त्वचा के लिए लाभदायक होते हैं। मैं अपने बच्चे के लिए मौसम के हिसाब से तेल का इस्तेमाल करती हूँ, क्योंकि सभी तेलों का मॉइस्चर भी अलग-अलग होता है जिससे उनकी त्वचा को विभिन्न प्रकार से लाभ मिलता है। जैसे अगर गर्मी है तो मैं नारियल के तेल का इस्तेमाल करती हूँ और अगर सर्दी है तो बादाम या सरसों के तेल इस्तेमाल करती हूँ।

2. बच्चे की साफ-सफाई

बच्चे की सफाई पर खास ध्यान देना चाहिए, विशेषकर उनके नाक कान नाखून और मुँह की सफाई पर। बच्चे के अंग बहुत नाजुक होते हैं इसलिए बहुत ही ध्यान से इन अंगों की सफाई करनी चाहिए, बच्चा बार-बार अपने हाथ को मुँह में ले जाता है, इसलिए हर सप्ताह में बच्चे के नाखून की सफाई करते रहना चाहिए।

ध्यान दीजिएगा बार-बार दूध पीने से जीभ के आसपास दूध की सफेद परत जमा हो जाती है जिससे बच्चे को पेट में दिक्कत हो सकती है, इसलिए किसी मुलायम और साफ कपड़े से बच्चे की जीभ को साफ करते रहना चाहिए बच्चे की कान और नाक की सफाई भी अगर रोज की जाए तो बच्चे को कोई दिक्कत नहीं होती है, लेकिन सावधानी से कार्य करें बच्चे को चोट नहीं लगती चाहिए।

3. बच्चे की नींद

एक अच्छी मसाज के बाद बात आती है बच्चे की नींद की, जो उनके लिए बेहद जरूरी है। एक नवजात शिशु लगभग 17 से 18 घंटे सोता है और अच्छी तरह मसाज करने से उन्हें और भी ज्यादा अच्छी तरह से नींद आती है। बच्चे को मसाज देने के बाद उसे एक अच्छी नींद लेने दें, इसके बाद उसे नहलाया जाए तो वे ज्यादा उर्जावान महसूस करते हैं। दूसरी तरफ हमें यह भी ध्यान रखना है कि बच्चा एक ही पोजीशन में ज्यादा देर तक ना सोए। थोड़ी-थोड़ी देर में वह अपनी पोजीशन बदलता रहे।

4. बच्चे की भूख

बच्चे के भूख से मतलब है की बच्चे को कितनी कितनी देर में खाना देना चाहिए। बच्चे के लिए 6 महीने तक सिर्फ माँ का दूध ही काफी होता है। 6 महीने के बाद हम उसको ठोस आहार देना शुरू कर सकते हैं। इससे बच्चे अलग-अलग स्वाद से परिचित होते हैं और उनकी रोग प्रतिरोधक क्षमता पर भी प्रभाव पड़ता है। साथ ही बच्चे की पसंद का भी अंदाजा लगता है कि उसको मीठा ज्यादा पसंद आ रहा है या नमकीन, फिर उस हिसाब से हम बच्चे का एक संतुलित आहार तैयार कर सकते हैं, इन्हीं महीने के आसपास बच्चे के दांत भी निकलना शुरू हो जाते हैं, इस वजह इस दौरान ज्यादातर बच्चे कमजोर हो जाते है, यह एक और कारण भी है जिसकी वजह से आपको बच्चे के खाने पर ध्यान देने के लिए कहा जाता है।

पहली बार माँ बनना जितना सुखद होता है उतनी ही जिम्मेदारी भी लाता है मगर इसके बावजूद अपने बच्चे के लिए यह सब करना आपके लिए एक अच्छा बहुत ही अच्छा अनुभव रहेगा।

5. टीकाकरण

बच्चे का टीकाकरण बेहद जरूरी है, सही समय पर सही टीका लगना बच्चे को कई खतरनाक बिमारियों से बचा सकता है। बच्चे के जन्म के बाद ही हॉस्पिटल से उसके टीकाकरण का कार्ड मिल जाता है, जिसमे टीकाकरण से संबंधित सभी जानकारी दी जाती है, उसके हिसाब से बच्चे का सही समय पर टीकाकरण होते रहना चाहिए। जो महिलाएं वर्किंग है या किसी और वजह से समय नहीं दे पाती है उनके लिए बहुत सारे आप्शन होते हैं बहुत सारे ऍप इनसे आपको मदद मिल सकती है। आप टीकाकरण याद रखने के लिए अलार्म सेट कर लिजिए। FirstCry App भी उनमें से ही एक है जो विशेष बच्चे से संबंधित है, यह मेरे लिए काफी सहायक रहा है।

अन्त में मैं आप सभी से यह कहना चाहूंगी यह सभी बड़ों की नसीहत है और मेरा खुद का अनुभव भी, जो मैं आप सबके साथ बांट रही हूँ और अपने बच्चे के साथ आनंद भरा जीवन बिता रही हूँ।

उम्मीद है आप सब को मेरा ये लेख पंसद आएगा।

Disclaimer: The views, opinions and positions (including content in any form) expressed within this post are those of the author alone. The accuracy, completeness and validity of any statements made within this article are not guaranteed. We accept no liability for any errors, omissions or representations. The responsibility for intellectual property rights of this content rests with the author and any liability with regards to infringement of intellectual property rights remains with him/her.

Previous article300 Baby Girl Names Ending in ‘N’
Next articleThe Struggle Is Real, Managing as a Mom and a Wife!